कौन है यह बिलकिस बानों?

0

शिखा कौशिक/

बिलकिस बानो मामले में सर्वोच्च न्यायालय ने मंगलवार को फैसला सुनाते हुए गुजरात सरकार से पीड़िता को मुआवजे के तौर पर 50 लाख रुपये देने का आदेश दिया. बानों के साथ 2002 के दंगों के दौरान सामूहिक बलात्कार किया गया था. अदालत ने यह मुआवजा पीड़िता को दो सप्ताह के अन्दर दिए जाने का आदेश दिया है. इसके साथ ही न्यायालय ने बिलकिस बानों को सरकारी नौकरी देने का भी आदेश दिया है. खासकर यह जानने के बाद कि पिछले सत्रह सालों से पीड़िता खानाबदोश की जिंदगी जी रहीं हैं. गुजरात सरकार ने इन्हें पांच लाख रुपये मुआवजा देने की घोषणा की थी जिसके खिलाफ इन्होने न्यायालय का दरवाजा खटखटाया था.

कौन है यह बिलकिस बानों?

बिलकिस बानो और उनका परिवार  2002 के गुजरात में हुए दंगों के पीड़ितों में शामिल हैं. दंगाईयों से बचने के लिए 3 मार्च 2002 को 19 वर्षीय बिलकिस बानो अपने परिवार के साथ एक ट्रक में सवार होकर भाग रहीं थीं. उस समय बिलकिस पांच महीने के गर्भ से थीं. उनके साथ ट्रक में उनकी दो साल की बेटी और परिवार के 17 अन्य लोग भी मौजूद थे.

ट्रक पर सशस्त्र दंगाईयों ने हमला किया.  इस भीड़ बिलकिस बानों की बेटी समेत 14 लोगों की हत्या कर दी. फिर इनके साथ सामूहिक बलात्कार किया. मरने वालों में बिलकिस की माँ हलीमा, चचेरे भाई शमीम और अन्य लोग शामिल थे.

जब बिलकिस बानों शिकायत दर्ज कराने पुलिस के पास गईं तो पुलिस ने न केवल रिपोर्ट लिखने से मना कर दिया बल्कि इनको धमकी भी दी गई. यहाँ से निराश पीड़िता भारत के राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के पास अर्जी लेकर गईं और साथ में सर्वोच्च न्यायालय में याचिका दायर की. सर्वोच्च न्यायालय ने इस मामले में सीबीआई जांच का आदेश दिया. इस जांच के दौरान बिलकिस बानों को जान से मारने की धमकी दी गई. इन धमकियों के मद्देनज़र न्यायालय ने इस मामले की सुनवाई को गुजरात से पड़ोसी राज्य महाराष्ट्र में स्थानांतरित कर दिया.

मुंबई की अदालत में 6 पुलिस अधिकारियों और एक सरकारी डॉक्टर सहित 19 लोगों के खिलाफ आरोप दायर किए गए. जनवरी 21, 2008 को दिए फैसले में विशेष अदालत ने 11 लोगों को दोषी पाया और उन्हें बानो के साथ बलात्कार करने और उसके परिवार के सात सदस्यों की हत्या करने के लिए आजीवन कारावास की सजा सुनाई.

सीबीआई ने जसवंतबाई नाई, गोविंदभाई नाई और राधेशाम शाह के लिए मृत्युदंड की मांग की थी. इनपर पूरी घटना की योजना बनाने और अंजाम देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने का आरोप था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here