मोदी को हीरो बनाने के चक्कर में ज़ी न्यूज़ और टाइम्स नाउ ने विदेश में फजीहत कराई

0

मोदी को ताकतवर दिखाने के लिए भारत के कुछ चैनलों ने ऐसा विडियो दिखाया जिससे यह साबित किया जा रहा था कि अबू धाबी के प्रिंस ने एक आयोजन में ‘जय श्री राम’ कहा.

सौतुक डेस्क/

जब शासक के पास दिखाने को कुछ नहीं होता तो वह कुछ काल्पनिक उपलब्धि दिखाता है जिसका अपने वास्तविक जीवन में कोई असर नहीं हो रहा होता. कुछ ऐसा ही दिखाने के चक्कर में भारत के चैनल ने तो अबू धाबी के प्रिंस को ‘जय श्रीराम’ कहते दिखा दिया. ये वही दोनों चैनल हैं जिसको प्रधानमंत्री ने हाल ही में साक्षात्कार दिया था. जी न्यूज़ और टाइम्स नाउ. लेकिन प्रधानमंत्री को खुश करने का इन चैनलों का यह प्रयास विदेश में अपने देश की फजीहत करा गया.

यह चैनल इस विडियो को जिस दिन मोदी अबू धाबी पहुंचे उसी दिन दिखा रहे थे. लेकिन यह विडियो मोरारी बापू के एक धार्मिक आयोजन का है जो सितम्बर 2016 में आयोजित हुआ था.इन दोनों भारतीय चैनलों ने यह जरुर दिखाया था कि यह विडियो पुराना है पर ‘जय श्रीराम’ कहने वाला शख्स वही है. जो कि नहीं है. विडियो में वैसा कहने वाला एक पत्रकार है.

इसके खिलाफ सबसे पहले दुबई के एक अखबार गल्फ न्यूज़ ने लिखना शुरू किया. इस अखबार की वेबसाइट ने एक तल्ख़ खबर लिखी जिसमें भारत के समाचार चैनलों पर ‘गलत प्रोपगंडा’ में शामिल होने का इलज़ाम लगाया और साथ में कहा कि इनका उद्देश्य देश में राजनितिक बढ़त लेना है.

इस वेबसाइट ने लिखा कि यह प्रिंस भारत के 2017 के गणतंत्र दिवस के मौके पर भारत में मौजूद थे. इसके बाद भी इस चैनल ने गैर-जिम्मेदाराना रवैया अपनाया और प्रिंस को पहचानने में गलती की

इस वेबसाइट ने लिखा कि यह प्रिंस भारत के 2017 के गणतंत्र दिवस के मौके पर भारत में मौजूद थे. इसके बाद भी इस चैनल ने गैर-जिम्मेदाराना रवैया अपनाया और प्रिंस को पहचानने में गलती की.

यह बताते हुए कि यह विडियो गलत है, इस वेबसाइट ने आरोप लगाया कि इससे पता चलता है कि भारत की मुख्यधारा की मीडिया प्रोपगैंडा और फेक न्यूज़ की शिकार हो गई है. इस वेबसाइट ने यह खबर प्रसारित करने के समय को लेकर भी सवाल खड़ा किया और कहा कि मोदी जब यहाँ आने वाले थे उसके ठीक एक दिन पहले इन चैनलों ने ऐसा किया.

यूनाईटेड अरब अमीरात के दूतावास ने इस सन्दर्भ में कोई व्यक्तव्य तो नहीं जारी किया है पर उसके ट्वीटर हैंडल द्वारा इन गल्फ न्यूज़ की इस खबर को साझा किया है.

द प्रिंट वेबसाइट के अनुसार, देश और देश की मीडिया की छवि खराब करने के बाद जी न्यूज़ ने ऑनलाइन स्टोरी को हटा लिया है जबकि टाइम्स नाउ ने उसी स्टोरी को सही वक्ता के साथ अब शेयर कर दिया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here