दो लाख कंपनियों के बैंक खातों पर लगी रोक

0
Credit- Linkedin

सौतुक डेस्क/

भारत सरकार ने कंपनी अधिनियम का उल्लंघन करने वाली करीब दो लाख कंपनियों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई करते हुए उनके बैंक खातों से लेन देन पर रोक लगाने की सिफारिश की है.

वित्त मंत्रालय से जारी आदेश के अनुसार 2,09,032 कंपनियों को धारा 248(5) के अंतर्गत कंपनियों के रजिस्‍टर से हटा दिया गया है. इस तरह  ऐसी कंपनियों के मौजूदा निदेशक एवं इनके अधिकृत हस्‍ताक्षरकर्ता अब भूतपूर्व निदेशक अथवा भूतपूर्व अधिकृत हस्‍ताक्षरकर्ता बन गए हैं. अत: ये लोग अब इन कंपनियों के बैंक खातों का परिचालन नहीं कर सकते.

अब कंपनी को अपने बैंक खातों से किसी भी तरह की निकासी के लिए कानूनी कार्रवाई से होकर गुजरना होगा.

वित्‍त मंत्रालय के वित्‍तीय सेवा विभाग ने भारतीय बैंक संघ के जरिए सभी बैंकों को यह सलाह दी है कि वे ऐसी बंद कर दी गई 2,09,032 कंपनियों के बैंक खातों पर प्रतिबंध लगाने के लिए तत्‍काल कदम उठाएं.

वित्‍त मंत्रालय द्वारा बैंकों को यह भी सलाह दी गई है कि वे समस्‍त कंपनियों के साथ कारोबार करने में विशेष रूप से सावधानी बरतें. कार्पोरेट कार्य मंत्रालय की वेबसाइट पर ‘सक्रिय’ रूप में मौजूद कोई कंपनी, जो अपने अपेक्षित वित्‍तीय विवरण अथवा ऋण के संबंध में वार्षिक विवरणी को प्रदर्शित नहीं करती है तो उसे प्रथम दृष्‍टि‍ में संदेह से देखा जाएगा. और यह भी माना जाएगा कि वह कंपनी अपने निवेशकों और आम जनता को महत्वपूर्ण सूचना एवं जानकारी से वंचित कर रही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here