बलात्कार के मामले में डेरा प्रमुख गुरुमीत सिंह को 20 साल के सश्रम कारावास की सजा

0
सौतुक डेस्क/
दो महिलाओं के बलात्कार के आरोप में डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत सिंह रामरहीम को सीबीआई कोर्ट ने आज बीस साल के सश्रम कारावास की सजा सुनाई.
गुरुमीत सिंह पर बलात्कार के दो केस चल रहे थे. आज फैसला सुनाते हुए सीबीआई के जज जगदीप सिंह ने दोनों मामले में अलग अलग दस साल की सजा सुनाई. यह भी स्पष्ट किया कि ये दोनों सजा एक साथ नहीं चलेगी. इसका तात्पर्य यह हुआ कि गुरुमीत सिंह को कुल बीस साल तक कारावास में गुजारनी पड़ेगी.
इसके साथ ही न्यायालय ने डेरा प्रमुख गुरुमीत सिंह पर 30 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया. जुर्माने की इस रकम से दोनों पीड़ित महिलाओं को पंद्रह लाख रूपया मिलेगा.
इसके पहले गुरुमीत राम रहीम के बचाव में उनके वकील ने कहा कि ये सामाजिक कार्यकर्ता हैं. वकील ने इस तथ्य और साथ में गुरुमीत सिंह के स्वास्थय के मद्देनजर कम सजा देने की अपील भी की थी. लेकिन मेडिकल रिपोर्ट के अनुसार गुरुमीत सिंह पूरी तरह स्वस्थ थे.

इसके पहले फैसले की वजह से किसी भी संभावित अराजक स्थिति से बचने के लिए प्रशासन ने पहले से ही तैयारियां कर रखी थी. देखते ही गोली मारने का निर्देश जारी किया गया था. मीडिया से बात करते हुए रोहतक के डिप्टी कमिश्नर अतुल कुमार ने कहा  कि जो भी किसी तरह के हिंसा में लिप्त पाया जाएगा उसको तुरंत गोली मारने का आदेश जारी हो चुका है.

हरियाणा और पंजाब, दोनों राज्यों ने स्कूल और कॉलेज बंद रखने के आदेश दे दिए थे. मोबाइल और इन्टरनेट सेवाएं पूरे दिन ठप्प रही. रोहतक जेल जहां गुरुमीत सिंह बंद हैं, उसके इर्द-गिर्द भी कड़ी सुरक्षा व्यवस्था लगाई गई है.

आपको बताते चलें कि पंचकुला की विशेष सीबीआई अदालत ने शुक्रवार को गुरमीत सिंह को दो महिलाओं के  बलात्कार का दोषी करार दिया था. इस फैसले के बाद हरियाणा, पंजाब, पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कुछ जिले और देश की राजधानी दिल्ली में राम रहीम के समर्थकों ने भारी उत्पात मचाया. इसमें 38 लोगों की जान चली गई और 250 से अधिक गायल हो गए. तोड़फोड़ और आगजनी कि घटनाओं से भी भारी नुकसान हुआ.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here