फर्जी कास्ट सर्टिफिकेट पर दस साल तक भाजपा सांसद रही यह महिला उमंग कुमार/

0

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सांसद हैं ज्योति धुर्वे। मध्यप्रदेश के बैतूल के इस सांसद का यह पद उनसे छीना जाने वाला है, क्योंकि इनका जाति प्रमाणपत्र फर्जी पाया गया है। लेकिन क्या यह शर्मनाक नहीं लगता कि देश के सर्वोच्च संस्थान यानि संसद में यह महिला दस साल उसी प्रमाणपत्र के सहारे गुजार चुकी है और अब इनको इस पद को खोने का दुख भी नहीं होगा क्योंकि लोकसभा चुनाव सर पर हैं।

बैतूल आदिवासियों के लिए आरक्षित सीट है, जहां से ज्योति धुर्वे 2009 में सांसद बनीं। फिर 2014 में भी धुर्वे को चुनाव में जीत मिली।

इनके इस फर्जीवाड़े के खिलाफ 2009 में ही शिकायत दर्ज हो गई थी। पेशे से वकील शंकर पेंडराम ने शिकायत दर्ज कराई थी कि धुर्वे का गोंड समाज से होने का दावा गलत है, और इन्होंने जो भी सर्टिफिकेट जमा किया है उससे उनका जो दावा है वह साबित नहीं होता। पेंडराम ने मांग की थी कि इनकी लोकसभा की सदस्यता रद्द की जाए।

इस शिकायत पर जांच शुरू हुई। राज्य के दलित और आदिवासी कल्याण विभाग ने भी यह फैसला दिया कि धुर्वे ने जो भी कागजात जमा किया है उससे साबित नहीं होता कि ये गोंड समुदाय से आती हैं। गोंड, मध्यप्रदेश का एक आदिवासी समाज है।

बैतूल आदिवासियों के लिए आरक्षित सीट है, जहां से ज्योति धुर्वे 2009 में सांसद बनीं। फिर 2014 में भी धुर्वे को चुनाव में जीत मिली।

खैर, सोचिये  इस फैसले को आने में कितने साल लग गए? नौ साल। यह फैसला अप्रैल, 1, 2017 को आया। कहने की जरूरत नहीं कि मध्यप्रदेश में शासन शिवराज सिंह चौहान का था। यानि भाजपा का।

जांच कमिटी ने धुर्वे का जाति प्रमाणपत्र रद्द कर दिया। इसके बाद सरकार ने आदेश दिया कि धुर्वे का प्रमाणपत्र रद्द किया जाए और उनके खिलाफ कारवाई  भी की जाए।

फिर धुर्वे ने इस फैसले के खिलाफ अपील दायर की। अगस्त 2018 में मध्य प्रदेश के उच्च न्यायालय ने राज्य के आदिवासी कल्याण विभाग को पंद्रह दिन के भीतर धुर्वे की जाति संबंधित मुद्दे का निपटारा करने का आदेश दिया। न्यायालय ने दो वरिष्ठ आईएएस अधिकारियों पर जान-बूझकर देरी करने के लिए फाइन भी लगाया।

पिछले सप्ताह राज्य के गृह मंत्री बाला बच्चन ने इस मामले में जल्द और उचित कार्यवाही करने का आश्वासन दिया है और कार्यवाही भी शुरू हो गयी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here