सेल्फी काल में सेल्फी से बन्दर ने की कमाई, जानिये कैसे?

0
बीबीसी से साभार

सौतुक डेस्क/

भारत में पिछले कुछ सालों में सेल्फी काल आया है जिसे वरिष्ठ पत्रकार रविश कुमार ‘राष्ट्रीय रोग’ तक कह चुके हैं. लेकिन भारत में इस काल के शुरू होने के काफी पहले इंडोनेशिया के जंगलों में एक बन्दर ने अपनी सेल्फी ली थी जिससे अब कमाई भी होने जा रही है.

यह वर्ष 2011 की बात है. उस साल एक बन्दर ने इंडोनेशिया के एक जंगल में अपनी सेल्फी ली थी.  इस पर अब तक कानूनी लड़ाई चल रही थी कि उस तस्वीर पर किसका हक़ है. फोटोग्राफर जिसका कैमरा इस्तेमाल हुआ था उसका या उस बन्दर का जिसने उस कैमरे से अपनी सेल्फी ले ली थी.

दो साल की लम्बी कानूनी लड़ाई के बाद फोटोग्राफर और जानवरों के हक़ के लिए लड़ने वाले संगठन पीपल फॉर दी एथिकल ट्रीटमेंट ऑफ़ एनिमल (पेटा) के बीच इस सप्ताह सुलह हो गई. इसके तहत  फोटोग्राफर डेविड स्लाटर उस सेल्फी से मिले पैसे का एक अंश जानवरों के भले के लिए देंगे. खासकर उस प्रजाति के बंदरों के लिए जिससे सेल्फी लेने वाला बन्दर जुड़ा है.

यद्यपि अमेरिका के सैन फ्रांसिस्को के न्यायलय ने कहा कि उस तस्वीर का मालिकाना हक़ बन्दर का नहीं हुआ पर फोटोग्राफर और पेटा ने आपस में सुलह कर एक विज्ञप्ति जारी की है जिसमे यह बताया गया है कि डेविड उस तस्वीर से होने वाली कमाई का 25 प्रतिशत दान में देंगे. यह पैसा किसी पंजीकृत संस्था को ही दिया जाएगा जो या तो जानवारों के बचाव के लिए काम कर रहा हो या नारुतो नामक बन्दर प्रजाति की रक्षा में लगा हो. अपनी सेल्फी लेने वाला बन्दर भी इसी प्रजाति का था.

पेटा की तरफ से लड़ते हुए इसके वकील जेफ्फ कर्र ने कहा था कि पेटा का यह केस अपने आप में बहुत  मायने रखता है. इसने अन्तराष्ट्रीय स्तर पर जानवरों के उस बुनियादी अधिकार से जुड़े मुद्दे पर चर्चा करवाई जिसका कोई मनुष्य अपने फायदे के लिए धड़ल्ले से इस्तेमाल करता है.

वहीं फोटोग्राफर ने यह दावा किया था कि उन्होंने बहुत अधिक मेहनत की थी और इसलिए इस तस्वीर पर उनका अधिकार हैं. उन्होंने यह भी दावा किया कि वे खुद ऐसे जीवों के सरंक्षण के लिए काम करते हैं और इस तस्वीर की वजह से इंडोनेशिया में जानवरों का बहुत फायदा हुआ है.

क्या है मामला?

 बन्दर के सेल्फी के मालिकाना हक़ (कॉपी राईट) को लेकर चल रहा विवाद चर्चित रहा है. मीडिया में आई खबरों के अनुसार इंग्लैण्ड के फोटोग्राफर डेविड  स्लाटर के कैमरे से इंडोनेशिया के जंगल में एक बन्दर ने अनजाने में अपनी तस्वीर उतार ली थी. बन्दर के प्रजाति के इस जानवर पर भी विवाद है जिसका उल्लेख ऊपर किया गया है.

यह तस्वीर विकिमीडिया कोमोंस के पास मौजूद है जिस पर इन दोनों पेटा और फोटोग्राफर के बीच विवाद चल रहा था. पेटा का तर्क था कि चूँकि यह तस्वीर उस बन्दर ने उतारी थी तो इस पर मालिकाना हक़ उसी का होना चाहिए वहीँ डेविड स्लाटर का तर्क था कि इंडोनेशिया जाकर उन्होंने अपने कैमरे और अन्य औजार ऐसे ढंग से रखे कि ऐसी तस्वीर उतर सके. इसलिए इसपर इनका अधिकार है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here