Tuesday, October 15, 2019
Home Tags Amit Shah

Tag: Amit Shah

अब मतदाताओं को सरकार के किये की जिम्मेदारी लेनी होगी

उमंग कुमार/ भारतीय जनता पार्टी के समर्थकों के लिए यह बड़ा समय है. जीत का जश्न मनाने का. लेकिन इस जश्न में इन मतदाताओं को...

क्या नरेन्द्र मोदी गठबंधन की सरकार चलाने की तैयारी कर रहे...

उमंग कुमार/ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता नरेन्द्र मोदी आजकल अपने प्राकृतिक तौर-तरीकों से हटकर व्यवहार करते नज़र आ रहे हैं. क्या यह गठबंधन...

सेना के हमदर्द मोदी-शाह 29 जवानों के साथ गायब विमान को...

उमंग कुमार/ पुलवामा में सेना की टुकड़ी पर हमला होने के बावजूद इसे अपनी सफलता मानने वाले नरेन्द्र मोदी इस एक घटना का जिक्र भूलकर...

भाजपा और कांग्रेस के मैनिफेस्टो की पड़ताल

उमंग कुमार/ वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव के पहले चरण में दो दिन बाकी हैं और आखिरी समय में सत्तारूढ़ दल भारतीय जनता पार्टी ने भी अपना मैनिफेस्टो जारी किया. संकल्प पत्र के नाम से जारी इस मैनिफेस्टो में ऐसा कुछ भी नहीं है जिसपर चर्चा होगी, जैसा कि कांग्रेस के मैनिफेस्टो के साथ हुआ. पिछले सप्ताह जारी अपनेमैनिफेस्टो में कांग्रेस पार्टी ने न्याय स्कीम की घोषणा की और कहा कि देश के गरीबों को सालाना 72 हज़ार की आय सुनिश्चित की जायेगी. इस योजना की वजह से कांग्रेस के मैनिफेस्टो पर लागातार बात हुई. पक्ष और विपक्ष दोनों में. यहाँ तक भाजपा के कई नेता और नीति आयोग के राजीव कुमार तक को इसकेखिलाफ बोलने की जरुरत आन पड़ी, जिसके लिए निर्वाचन आयोग ने उनकी खिंचाई भी की. देश में बेरोजगारी चरम पर है. मोदी सरकार के कार्यकाल में किसानों ने लागातार प्रदर्शन किया है. ऐसे में सवाल है कि भाजपा के मैनिफेस्टो में इतनी उदासी क्यों! इन समस्याओं से निपटने के लिए इस मैनिफेस्टो में कोई दूरदृष्टि क्यों नहीं दिखाई गई है!  इसकी मुख्य वजह है, मोदी सरकार की मजबूरी, जिसमें वहयह मान नहीं सकते कि देश में कोई बड़ी समस्या है. जैसा कि अमित शाह ने मैनिफेस्टो के जारी होने के मौके पर बोला कि देश अब महाशक्ति बन चुका है. अब, जब महाशक्ति बन ही चुका है तो कोई बड़ा विज़न लाने की जरुरत ही क्यों है. नरेंद्र मोदी की मजबूरी यह है कि अगर इन समस्याओं को ग़लती से मान लिया तो देश के लोग उनसे हिसाब मांगेंगे कि आपने अपने कार्यकाल में इन सब मुद्दों पर क्या किया. इसीलिए मोदी अपने चुनाव प्रचार में भी सिर्फ पकिस्तान, राष्ट्रवाद या फिर कांग्रेस के कार्यकाल की बातें कर रहे हैं. उन्हें मालूम है कि अगरगलती से लोगों का ध्यान देश की समस्याओं की तरफ आ गया तो भारी मुश्किल हो जायेगी. दूसरी तरफ, कांग्रेस ने अपने मैनिफेस्टो में न केवल देश में व्याप्त भीषण बेरोजगारी, कृषि संकट, स्वास्थय और शिक्षा से जुड़ी समस्या को उठाया बल्कि इन समस्याओं से निपटने के लिए निदान भी बताये. इसमें किसानों के लिए अलग से किसान बजट, गरीबों को 72,000 की सालाना आमदनी सुनिश्चित करना, मृदाक्षरण को देखते हुए युवाओं को पंचायत से जोड़ने की बात जिससे न केवल मृदा क्षरण रुकेगा बल्कि युवाओं को रोजगार भी मिलेगा. स्वास्थ्य के लिए जीडीपी का तीन प्रतिशत और शिक्षा के लिए जीडीपी का 6 प्रतिशत निर्धारित करने का वादा. ये सब लोकलुभावने वादे हो सकते हैं पर मैनिफेस्टो के मामले में कम सेकम कांग्रेस ने बाजी मार ली है. मैनिफेस्टो में भाजपा का वादा राम मंदिर का निर्माण धारा 370 हटाना 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करना धारा 35 ए  को जिसके तहत कोई बाहरी कश्मीर में जमीन नहीं खरीद सकता किसानों के लिए पेंशन की व्यवस्था मैनिफेस्टो में कांग्रेस का वादा न्याय योजना के अंतर्गत गरीबों के लिए न्यूनतम 72 , 000 सालाना आय सुनिश्चित करना शिक्षा के क्षेत्र में बजट को  बढ़ाकर 2023-24 तक जीडीपी का 6% करना महिला आरक्षण बिल को 17 वीं लोकसभा के पहले सत्र  में पास करना राइट टू हैल्थ केयर अधिनियम लागु करना किसानों के लिए एक अलग किसान बजट बेरोजगारी से निपटने के लिए मार्च 2020  तक सभी सरकारी रिक्त पदों पर बहाली

क्या जनवरी में भाजपा को नया पार्टी अध्यक्ष मिलने वाला है?

उमंग कुमार/ क्या अमित शाह की पार्टी अध्यक्ष की कुर्सी खतरे में हैं? क्या 2019 का लोकसभा चुनाव भारतीय जनता पार्टी, गुजरात के दो धुरंधर-...

हिंदी हार्टलैंड में कांग्रेस की सफलता को इन पांच ‘एम’ के...

उमंग कुमार/ कहने वाले कह सकते हैं कि कांग्रेस पार्टी ने हिंदी क्षेत्र के तीनों राज्य में चुनाव जीता तो है पर वैसे नहीं जैसे...

सुषमा स्वराज के चुनाव नहीं लड़ने के निर्णय के क्या हैं...

जितेन्द्र राजाराम/ मध्य प्रदेश में एक भाजपा प्रत्याशी प्रदेश अध्यक्ष से जब फ़ोन पर यह कहता है कि नरेन्द्र मोदी की रैली में कोई आना...

कौन है मोईन अख्तर कुरैशी जिसकी वजह से तीन सीबीआई निदेशकों...

अनिमेष नाथ/ देश में अभी सबसे बड़ा मुद्दा है सीबीआई में मचा घमासान और उसके बाद आनन-फानन में सरकार की कार्यवाही जिसे राफेल जांच से...

आखिर क्या है असम का यह एनआरसी का मुद्दा जिसपर पूरा...

सौतुक डेस्क/ देश में अभी सबसे बड़ा मुद्दा है असम का राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (NRC). सरकार ने दो दिन पहले इसका मसौदा जारी किया जिसमें...

आज जैसा डर, बेबसी का माहौल आपातकाल में नहीं देखा :...

सौतुक डेस्क/ प्रख्यात पत्रकार एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी ने भारत के मौजूदा राजनीतिक हालात को 'विकेंद्रीकृत आपातकाल' बताया है। शौरी ने शुक्रवार को...

लोया के बेटे और रिटायर्ड जजों के मैदान में आने से...

सौतुक डेस्क/ शनिवार और रविवार न्यायपालिका के मद्देनजर उठापटक वाला समय रहा. एक तरफ केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के न्यायाधीश ब्रिजगोपाल हरकिशन लोया की मौत...

गुजरात चुनाव में हुए कुछ अजब गजब उठा-पटक, कई अप्रत्याशित परिणाम

मोदी के घर में हारी भाजपा तो नोटा तीसरा सबसा बड़ा दल बनकर उभरा सौतुक डेस्क/ यह जानकार ताज्जुब होगा कि गुजरात के लोगों ने भाजपा...

गुजरात में फिर खिल रहा कमल, भाजपा सरकार बनाने की तरफ...

सौतुक डेस्क/ देश के आगे की राजनीति के मद्देनजर अहम् माने जाने वाले गुजरात विधानसभा के चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) जीत की तरफ...

धर्म और राजनीति का घालमेल कौन कर रहा है, मोदी या...

उमंग कुमार/ गुजरात विधानसभा चुनाव के लिए प्रचार करते हुए देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कांग्रेस और देशवासियों से कहा कि चुनाव के साथ...

इंडियन एक्सप्रेस ने ‘दी कारवां’ की रिपोर्ट को गलत और न्यायधीश...

सौतुक डेस्क/ दी इंडियन एक्सप्रेस खोजी अखबार माना जाता रहा है. इसने इतिहास में ढेरों खुलासे किये हैं पर यह नहीं मालूम कि इसके उन...

न्याय तो दूर, यहाँ न्याय देने वाला संकट में है

 उमंग कुमार/ यह किसी थ्रिलर से कम नहीं है. एक जज को अपने सहकर्मी के बेटी की शादी में जाना है. वह नहीं जाना चाहता....

गुजरात चुनाव: पाटीदार नेता का आरोप भाजपा ने पार्टी में शामिल...

सौतुक डेस्क/रविवार की शाम पाटीदार समुदाय के एक वरिष्ठ नेता नरेन्द्र पटेल ने पत्रकार वार्ता बुलाकर एक धमाका किया. उनके अनुसार, केंद्र और राज्य...

जय शाह बनाम राबर्ट वाड्रा

जीतेन्द्र कुमार/साल 2014 का लोकसभा चुनाव याद कीजिए और नरेन्द्र भाई मोदी और अमित शाह जी का भाषण भी. राबर्ट वाड्रा दामाद जी हो...

रविवार को दी वायर, अमित शाह के बेटे रहे चर्चा में,...

सौतुक डेस्क/   रविवार को दी वायर ने धमाका करते हुए एक खबर प्रकाशित की जिसमे अमित शाह के बेटे के व्यवसाय में एक साल...

शुभ समाचार

विज्ञानं