धनिया के फायदे 

0

सौतुक डेस्क/

धनिया, सिलैंट्रो या कोरियंडर, भारत में सबसे अधिक उपयोग किए जाने वाले मसालों में से एक है. व्यंजनों में स्वाद बढ़ाने और गार्निशिंग अथवा सजाने के  उद्द्येश्य से धनिया पत्ते का प्रयोग काफी आम है. ये देश के लगभग हर रसोईघर में आपको मिलेगा. इसकी सरल उपलब्धता और भारतीय व्यंजनों में इसकी लोकप्रियता ही इसके बड़े स्तर पर प्रयोग होने का कारण नहीं है. बल्कि इसके औषधीय गुणों की वजह से इसका अधिक से अधिक प्रयोग होता है. हरा धनिया स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभकारी है, लेकिन इसके फायदों से लोग अनभिज्ञ हैं. तो अगली बार जब आप धनिया का इस्तेमाल करें तो याद रखें कि ये हरे पत्ते जिन्हें आप केवल एक साधारण गार्निश मानते हैं उनमें आवश्यक तेलों के 11 घटक और एस्कॉर्बिक एसिड सहित छह प्रकार के एसिड होते हैं.

ये रहे इसके कुछ मुख्य फायदे

यह त्वचा को साफ़ करता है

धनिया के पत्तों में कीटाणुशोधन, डिटॉक्सिफाइंग और एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं, जो एक्जिमा और कवक संक्रमण जैसे त्वचा विकारों का इलाज करने में मदद करते हैं। यह न सिर्फ सूजन को रोकता है बल्कि जलन को भी कम करता है.

मुंह में अल्सर का इलाज

धनिया में आवश्यक तेलों का एक घटक होता है, जिसे साइट्रोनेलोल कहा जाता है, जो एक बहुत ही उपयोगी एंटीसेप्टिक है. यह हानिकारक सूक्ष्मजीवों से लड़ने में भी मदद करता है और अल्सर  लिए काफी प्रभावी उपचार है। इसके एंटीसेप्टिक गुणों के कारण धनिया को टूथपेस्ट में भी प्रयोग किया जाता है। यह बुरी सांस को कम करने में भी मदद करता है.

यह मासिक धर्म चक्र को नियंत्रित करता है

धनिया अंतःस्रावी ग्रंथियों से उचित स्राव के विनियमन में मदद करता है. यह मासिक धर्म विकारों को रोकने में मदद करता है और चक्र के दौरान दर्द को कम करता है.

यह दृष्टि विकार को रोकता है

यह हरा जड़ी-बूटी बढ़ते उम्र में दृष्टि रोग के मरीजों को काफी को लाभ पहुंचता है. यह दृष्टि में लगातार हो रहे नुकसान को रोकता है क्योंकि यह एंटीऑक्सीडेंट, विटामिन ए, विटामिन सी, और खनिजों जैसे खनिजों से भरा हुआ है. ये सभी चीज़ें दृष्टि विकारों और अन्य आंखों की बीमारियों को रोकने में मदद करते हैं.

यह पाचन में मदद करता है

धनिया पाचन को नियंत्रित करने के लिए जाना जाता है क्योंकि इसमें एक समृद्ध सुगंध है जो आंत में पाचन रस और एंजाइम के उचित स्राव में मदद करता है.

यह नींद चक्र सामान्य रखता है

धनिया के पास शामक गुण होते हैं, इसलिए यह नींद चक्र को नियंत्रित करने में मदद करता है.

तो याद रखें कि ये हरे पत्ते जिन्हें आप केवल एक साधारण गार्निश मानते हैं उनमें आवश्यक तेलों के 11 घटक और एस्कॉर्बिक एसिड सहित छह प्रकार के एसिड होते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here