कौन चुन रहा है आपका राष्ट्रपति?

0

सौतुक डेस्क/

देश के चौदहवें राष्ट्रपति का चुनाव 17 जुलाई को हो रहा है. देश के इस प्रथम नागरिक को  चुनने वाले नीति-निर्माताओं में से एक तिहाई दागी हैं और 20 प्रतिशत के खिलाफ तो संगीन अपराध के मामले हैं.

सनद रहे कि राष्ट्रपति का चुनाव देश के सांसद और प्रत्येक राज्य के विधायक मिलकर करते हैं. इसका तात्पर्य यह है कि कुल 4,896 सांसद और विधायक मिलकर देश के प्रथम नागरिक का चुनाव करेंगे. इसमें 776 लोकसभा और राज्यसभा के सांसद तथा राज्यों के 4,120 विधायक शामिल हैं. इनमे से कुल 1,581 सांसद और विधायक दागी हैं तथा 993 पर  संगीन अपराध के इल्जाम हैं.

राष्ट्रपति के चुनाव में कुल 4,896 सांसद और विधायक हिस्सा लेंगे. एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफार्म और नेशनल इलेक्शन वाच ने इन नीति- निर्माताओं के अपराधिक रिकॉर्ड को समझने के लिए इनके द्वारा चुनाव आयोग में जमा किये शपथपत्र का अध्ययन किया. चुनाव के विश्लेषण पर कार्य करने वाली इन संस्थाओं ने 4,852 शपथपत्रों का विश्लेषण किया.

इन संस्थाओं  के अध्ययन से पता चलता है कि 543 लोकसभा सांसदों में से 184 यानि 34 प्रतिशत के आपराधिक रिकॉर्ड हैं. इसी तरह 231 राज्यसभा के सदस्यों में से 44 यानि 19 प्रतिशत के खिलाफ अपराध का मुकदमा दर्ज है. वहीं सभी राज्यों के कुल 4,078 विधायकों में से 1,353 के खिलाफ अपराध के मामले दर्ज हैं.

कुल 117 लोकसभा सदस्यों, 16 राज्य सभा सदस्यों तथा 860 विधायकों पर संगीन अपराध के मामले दर्ज हैं. इनमे से कुल 87 पर हत्या का आरोप है. कुल 543 लोकसभा के सदस्यों में से 13 पर हत्या करने का आरोप दर्ज है. हत्या के प्रयास का आरोप देखें तो कुल 190 सांसद और विधायक इस दायरे में आते हैं. इसमें 17 लोकसभा और 15 राज्यसभा के सदस्य शामिल हैं. इन नीति-निर्माताओं में से 64 पर अपहरण और 52 पर महिलाओं के खिलाफ अपराध का इल्जाम है. महिला के खिलाफ अपराध में बलात्कार और दहेज़ उत्पीड़न जैसे मामले हैं.

देश की 50 प्रतिशत महिला आबादी को मिलेगा महज 9 प्रतिशत प्रतिनिधित्व

राष्ट्रपति के चुनाव में भाग ले रहे कुल 4,852 सांसद और विधायकों में केवल 451 महिला प्रतिनिधि ही शामिल होंगी. यह कुल संख्या का बमुश्किल 9 प्रतिशत होगा.  इसमें  लोकसभा के 65 और राज्य सभा के 23 प्रतिनिधि शामिल हैं. कुल विधायकों में केवल 363 महिला विधायक होंगी जो राष्ट्रपति के चुनाव में अपने मत का इस्तेमाल करेंगी. इसमें पश्चिम बंगाल से 41, उत्तर प्रदेश से 40, मध्य प्रदेश से 32, बिहार से 28 और राजस्थान के 27 विधायक शामिल होंगी.

ज्ञात होना चाहिए कि राष्ट्रपति के चुनाव में आजकल महिला उम्मीदवार खड़ा करना एक प्लस पॉइंट की तरह दिखाया जाता है. कांग्रेस ने पहले प्रतिभा पाटिल को राष्ट्रपति का उम्मीदवार बनाया, जो जीतीं भी. तब कांग्रेस के नेतृत्व में यूपीए की सरकार थी. आज कांग्रेस सत्ता से बाहर है. इस बार विपक्ष ने लोकसभा की अध्यक्ष रह चुकी मीरा कुमार को अपना उम्मीदवार बनाया है. नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में सत्ता पक्ष ने रामनाथ कोविंद को अपना उमीदवार बनाया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here