राजस्थान की वजह से ‘पद्मावती’ हुई ‘पद्मावत’ फिर भी राज्य में रिलीज़ नहीं होगी फिल्म

0

सौतुक डेस्क/

इसको कहते हैं असली खेल. राजस्थान ने पद्मावती और अब पद्मावत का विरोध किया. फिल्म रिलीज़ नहीं हो पाई. सेंसर बोर्ड ने राजस्थान में हो रहे विरोध के मद्देनजर वहाँ के लोगों से रायशुमारी तक कर डाली. उनके कहे अनुसार इस फिल्म में फेर-बदल करने को कहा गया. यहाँ तक कि फिल्म का नाम तक बदल दिया गया. सबकुछ करने के बाद जब फिल्म के रिलीज़ की पुनः घोषणा हुई तो राजस्थान सरकार ने कह दिया कि राज्य में फिल्म को रिलीज़ नहीं होने दिया जाएगा.

जी हाँ. यह भारतीय गणतंत्र के एक सच्ची घटना है. और कोई भी यही कहेगा जब यही होना था तो इतना फेरबदल क्यों और रिलीज़ पर इतने दिन रोक क्यों! और फिर इसमें सेंसर बोर्ड की कुछ जिम्मेदारी क्यों नहीं, जो कथित तौर पर पीड़ित समाज से फिल्म में सुधार की राय लेता है.

सोमवार को जब फिल्म के निर्माता ने यह घोषणा की कि पद्मावत 25 जनवरी को देश के तमाम सिनेमाघरों में प्रदर्शित होगी उसी दिन राजस्थान के मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने भी यह घोषणा कर डाली कि इस फिल्म पर राजस्थान में प्रतिबन्ध जारी रहेगा.

राजस्थान में विरोध हो रहा था. वहाँ के लोगों का ‘गौरव’ इससे प्रभावित हो रहा था. सेंसर बोर्ड की कैंची चलने के बाद भी यह ‘गौरव’ आहत हो ही रहा है. तो आखिर यह सब क्यों किया गया?

उनका कहना था कि रानी पद्मिनी जिसको की पद्मावती के नाम से भी जाना जाता है “वह हमारे लिए गौरव की बात है और हमलोग किसी को उनके साथ अनादर नहीं करने देंगे. रानी पद्मिनी हमारे लिए बस ऐतिहासिक चरित्र ही नहीं हैं बल्कि गौरव हैं किसी को इसके साथ खिलवाड़ नहीं करने दिया जाएगा.” राजे ने राज्य के गृहमंत्री को इस सन्दर्भ में एक पत्र लिखकर अपने फैसले से अवगत भी करा दिया है.

लेकिन इसपर यही सवाल उठता है कि फिर सेंसर बोर्ड की यह कैंची क्यों चली? राजस्थान में विरोध हो रहा था. वहाँ के लोगों का ‘गौरव’ इससे प्रभावित हो रहा था. सेंसर बोर्ड की कैंची चलने के बाद भी यह ‘गौरव’ आहत हो ही रहा है. तो आखिर यह सब क्यों किया गया?

सनद रहे कि संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावती  को लेकर काफी विवाद हो चुका है. जबकि देखने वाले और इस फिल्म के एक कलाकार रणवीर सिंह जो खुद उस समाज से आते हैं, ने कई बार कहा है कि इस फिल्म में ऐसा कुछ भी नहीं हैं जिससे लोगों की भावना आहत होगी. विरोध करने वालों को खुश करने के लिए निर्देशक ने कुछ चुनिन्दा मीडियाकर्मियों के लिए फिल्म के शो का आयोजन किया और सबने देखकर यही कहा था कि फिल्म के हर दृश्य में राजपूत समाज और रानी पद्मावती की शान बघारी गई है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here