प्रोफ़ेसर लिंडा हेज़ का कबीरमयी हो जाना

3

संदीप नाईक/

पीछे देवास की टेकडी का दृश्य है जिस पर ई एम फास्टर ने द हिल ऑफ देवीजैसा उपन्यास लिखा था और आगे बैंक नोट प्रेस को जाने वाली सड़क है जहां भारत भर के लिए नोट छपते हैं बीच में मित्र अनु और अरविन्द का घर है. यह सर्दियों की हल्की सी एक दोपहर है और पेड़ों के झुरमुट के बीच हम तीन लोग बैठे हैं और गप लगा रहे हैं. जब कल अरविन्द ने बताया था कि लिंडा आई हुई हैं तो मेरा मन था कि अबकी बार तसल्ली से उनके साथ बैठूंगा और कुछ लम्बी बातचीत करूंगा. आज सुबह अरविन्द ने फोन किया कि आज दोपहर में आ जाओ तो मन प्रसन्न हो गया. याद आता है लिंडा दो साल पहले अपना दस साला काम खत्म कर निकल गई थीं और तब लगा था कि यह मालवे का आखिरी चक्कर हो, पिछले दिनों प्रहलाद सिंह तिपान्या जी मई-जून में अमेरिका होकर आये तो फेसबुक से पता चला था कि लिंडा को चोट लगी है और वे पूरी निर्भीकता से अपने आपरेशन के फोटो और फिर यहाँ-वहाँ के फोटो डालती रही हैं. अभी पिछले हफ्ते ही वे कही बाहर थीं और उनका पोस्ट देखकर ख़ुशी हुई थी. आज उनसे मिलने का योग आया तो बहुत उत्साह से मैं चला गया, जाते समय कुछ ताजे फल ले गया था ताकि गपशप के दौरान हम सब मिलकर कुछ खाते रहें.

वे कहती हैं तुलसीदास भी मेरे प्रिय थे और कबीर भी, मीरा भी और सूरदास भी परन्तु कबीर ने मुझे ज्यादा आकर्षित किया क्योंकि कबीर हर बार अपनी बात, अपना संघर्ष, अपना विरोध और अपने तर्क लोगों को सुनाकर कहते है

अरविन्द के घर जाते ही उन्होंने मुस्कुराकर नमस्ते बोला तो मै भी गर्मजोशी से मुस्कुरा दिया और हाथ जोड़ दिए. घर में गया तो अनु अपने काम में लगी थी और अरविन्द और लिंडा मानो मेरा ही इंतज़ार कर रहे थे. देवास में मराठा शासन रहा, अंग्रेजों के खिलाफ भी प्रजा मंडल जैसे आन्दोलन यहाँ उभरे हैं और साहित्य संगीत की नगरी होने के कारण मालवा का यह शहर प्रदेश और देश में अपनी एक विशिष्ट पहचान रखता है. यहाँ की टेकडी, उद्योग, कला, चित्रकला, रंगोली कला, नृत्य, संगीत और बैंक नोट प्रेस के कारण यह शहर प्रसिद्ध भी है. हम बैठे हैं बाहर खुले में पेड़ों के नीचे, एक गिलहरी दीवार पर तेजी से दौड़ते हुए तेज आवाज में कुछ कह रही है, पेड़ों पर पक्षी शोर मचा रहे हैं, तापमान सामान्य है, मौसम खुशगवार है अदरख की चाय और हम तीन लोग. बातचीत शुरू होती है हालचाल से, भारत अमेरिका के सम्बन्ध और वर्तमान परिस्थितियों से जो बमुश्किल पांच मिनिट में खत्म हो जाती है और मै मुस्कुरा देता हूँ. लिंडा कहती हैंमै जब कोई बात करने या इंटरव्यू जैसा करने आता है तो भाग जाती हूँ पर आज बैठकर बात करने का मन है क्योंकि आप सब लोग अपने लोग हो जिनके साथ मै पिछले लगभग बीस वर्षों से काम कर रही हूँ. सन 1998 में इलाहबाद में डा नामवर सिंह ने मुझसे कहा था कि यदि कबीर को जानना समझना है और कुछ काम करना है तो इन लोगों से मिलो,मालवा में जाओ और देखो कि कितना गंभीर काम लोग करते हैं और कैसे सीखते हैं ? अगर नामवरजी उस कबीर की छः सौवीं जयंती पर मुझे यह नहीं कहते तो शायद आज हम यहाँ नहीं बैठे होते. और न ही इतनी बेतकल्लुफी से और बात कर रहे होते.

—-

आज से पचास बरस पूर्व सोलह बरस की एक अमरीकी लड़की कुछ नया सोचती है हर बार और कुछ करना चाहती है वह अपने सपनों को अंजाम भी देती है और इक्कीस बरस की उम्र में उठकर भारत जैसे देश में आ जाती है बनारस शहर में उसका पाला पड़ता है साधू-सन्यासियों और भजन गाने वालों से, बनारस ही क्यों, क्योंकि  वे कहती हैं भारतीय सूफी संतों की परम्परा में तुलसीदास और कबीर का बनारस से गहरा नाता रहा है और लिहाजा वे बनारस को अपना उद्देश्य बनाकर आती है और यहाँ लोगों से मिलती है. उसे सगुन और निर्गुण दोनों मिलते है यहाँ जो जनमानस में रचे बसे है. आज प्रोफ़ेसर लिंडा हेस पचहत्तर साल से ज्यादा की उम्र में हैं और उनके सपने बहुत बड़े है, सेवा निवृत्ति के बाद वे इन दिनों प्राग के एक प्राध्यापक के साथ चार सौ पेज से ज्यादा और असंख्य संख्यायों से भरी मेनूस्क्रिप्ट के अंग्रेजी अनुवाद का वृहत्तर कार्य कर रही हैं.

आज से पचास बरस पूर्व सोलह बरस की एक अमरीकी लड़की कुछ नया सोचती है हर बार और कुछ करना चाहती है वह अपने सपनों को अंजाम भी देती है और इक्कीस बरस की उम्र में उठकर भारत जैसे देश में आ जाती है

______

बाबा विश्वनाथ की नगरी काशी के सम्मोहन में वे भटकती हैं पढ़ती हैं, समझने का प्रयास करती हैं. गंगा का पानी उन्हें उत्साहित करता है, और वे उसीमें रचनाबसना चाहती हैं परन्तु कुछ काम, कुछ परिवार और इस तरह से लौट जाती हैं अमेरिका. पर भारत का मोह, निर्गुण, सगुन, कबीर तुलसी, मीरा और सूरदास उनका पीछा नहीं छोड़ते और वे पुनि पुनि लौटकर आती हैं यहाँ, ताकि कुछ कर और समझ सकें. सोचिये एक भद्र अमेरिकी महिला जो पढ़ी-लिखी है स्टेनफोर्ड जैसे विश्व विद्यालय में दक्षिण एशियाई विभाग के संस्कृति एवं भाषा विभाग में प्रमुख रही हो, उसे भारत से इतना प्यार और वो भी यहाँ के समूचे सूफी आन्दोलन और भक्ति काल के चार बड़े कवियों की कविता से प्रभावित ने क्या-क्या नहीं किया होगा. हमारे मौजूदा विश्व विद्यालय के हिंदी विभागों की हालत क्या है इस पर फिर कभी. पर लिंडा हेस ने भारत में आकर समूची भक्ति कालीन परम्परा को आत्मसात कर एक नए प्रकार का विश्लेषण और विचार दिया.

लिंडा हेज़ के साथ संदीप नाईक

वे कहती हैं तुलसीदास भी मेरे प्रिय थे और कबीर भी, मीरा भी और सूरदास भी परन्तु कबीर ने मुझे ज्यादा आकर्षित किया क्योंकि कबीर हर बार अपनी बात, अपना संघर्ष, अपना विरोध और अपने तर्क लोगों को सुनाकर कहते है सुनो भाई साधौ….जो कि एक अपने आप में महत्वपूर्ण बात है और संसार में अपने तरह का अलग नजरिया भी. क्योंकि सूर, मीरा और तुलसी में भक्ति चरम पर रहा और कबीर हर जगह सवाल उठाते है और विद्रोह भी करते हैं. कबीर यूँ लगा जैसे मेरे चित और मन मस्तिष्क पर छाये हुए विद्रोही स्वभाव की ही परिणिति है या रिफ्लेक्शन है इसलिए मैंने बहुत सोच-विचार कर कबीर पर काम करने का तय किया और जुट गई. मूल रूप से तो वे बंगाल के मठों और उनके अवधूतों का अध्ययन करने आईं थीं, बंगाली भाषा सीखना चाहती थी पर जब कबीर को देखा, पढ़ा और गुना तो लगा कि यह तो एकदम मेरे स्वभाव के अनुरूप है और इसी में मुझे अब आगे बढ़ना है. गत 50 बरसों से वे लगातार भारत आ रही हैं और एक लंबा समय उन्होंने भारत में बिताया है जो अपने आप में एक बड़ी बात है. दिल्ली से लेकर बेंगलोर, मुम्बई और और बड़े शहर ही नहीं बल्कि असली भारत के दूरदराज के इलाकों में यात्रा कर भक्तिकाल को समझने वाली संभवतः वे विश्व की पहली महिला होंगी जो दूर देश से आकर दलित, वंचित और हाशिये के समुदाय के लोगों के साथ उन्हीं के घरों में रहकर उन पर शोध का कार्य करती रहीं यह शायद एक बड़ी बात ही नहीं बल्कि रेखांकित की जाने वाली उपलब्धि है. प्रोफ़ेसर लिंडा ने इस दौरान हिंदी सीखी, लोक भाषा मालवी सीखी और काम किया. एकलव्य के द्वारा किये जा रहे काम को जब उन्होंने देखा तो वे मालवा में कबीर की वाचिक परम्परा से प्रभावित हुईं और उन्होंने इस समृद्ध परम्परा पर काम करने की ठानी और फिर सफ़र शुरू हुआ.

एकलव्य ने सन 1991-92 से मालवा के देवास जिले से कबीर भजन मंडलियों के साथ काम की शुरुआत की थी और इस दौरान एकलव्य के साथियों ने पाया कि यह मंडलियाँ मुख्य रूप से दलित समुदाय के बीच हैं जहां लोग दिनभर मेहनत करते हैं और रात को खाना खाकर कबीर को अपने एकतारे के साथ गाते हैं और सिर्फ गाते ही नहीं वरन सत्संग भी करते हैं कि कबीर जी ने ऐसा क्यों लिखा और आज इसकी क्या उपयोगिता है. मालवा की कबीर मंडलियों के साथ एकलव्य का यह प्रयोग बरसों चला जहां मंडलिया माह के दूसरे दिन यानी दो तारीख को आती थीं और भजन गाकर चर्चा में शामिल होती थीं. यह बाबरी मस्जिद टूटने का समय था और देश में साम्प्रदायिकता ने अपने पाँव ही नहीं पसारे थे बल्कि जमकर स्थापित भी हो गई थी. इसी समय उत्तर प्रदेश में कांशीराम जी और मायावती दलित राजनीति के नए पैरोकार बन रहे थे और तिलक, तराजू और तलवार- इनको मारो जूते चारजैसे नारे दे रहे थे. ध्रुवीकरण अपने चरम पर था और ऐसे में कबीर की प्रासंगिकता और आंबेडकर शताब्दी वर्ष के दौरान नए बने डा बाबा साहब अम्बदेकर राष्ट्रीय सामाजिक शोध संस्थान, महू एकलव्य देवास को इस तरह के काम में वैचारिक सहयोग दे रहा था. साथ ही भारतीय इतिहास शोध परिषद् ने इस तरह के वाचिक परम्परा के दस्तावेजीकरण के लिए एकलव्य को एक छोटी मदद भी की थी. कुल मिलाकर यह कबीर को नए तरह से गढ़ने का समय था और ऐसे में प्रहलाद तिपानिया जैसे लोक गायक जो बरसों से गा रहे थे सामने आये. कैसेट का दौर था उनकी पहली कैसेट डा सुरेश पटेल ने जबलपुर में बनवाई और वह इतनी प्रसिद्ध हुई कि हाथों-हाथ बिक गई, एकलव्य पर भी कबीर के भजन की किताब छपने का दबाव था. यह काम अपने तरह का अनूठा था इतना कि इसमें कारवां बढ़ता ही गया. शबनम वीरमनी से लेकर अंत में प्रोफ़ेसर लिंडा हेस का आना इस पूरे काम को और अधिक महत्वपूर्ण बनाता गया. लिंडा ने इस दौरान कबीर के भजनों का अंग्रेजी में अनुवाद कर, कुमार गन्धर्व के द्वारा गाये भजनों का एक संकलन छापा जो प्रसिद्ध हुआ. बाद में वे मालवा की कई मंडलियों के साथ काम करने लगीं. प्रह्लाद जी के यहाँ रहकर उन्होंने कबीर के भजन सुने, गुने और उन्हें आत्मसात किया, लोगों से बात की, देशभर के विख्यात बुद्धिजीवी, विश्व विद्यालयों में प्राध्यापकों, निर्गुण और सगुन गाने वालों के साथ लम्बे-लम्बे वार्तालाप किये और एक वृहद् किताब ‘बॉडी ऑफ़ सोंग्स’ लिखी है जो पूरी कबीर की शैली, परम्परा, भक्तिकाल और आज के समय में कबीर की प्रासंगिकता को बयाँ करती है.

एकलव्य ने सन 1991-92 से मालवा के देवास जिले से कबीर भजन मंडलियों के साथ काम की शुरुआत की थी और इस दौरान एकलव्य के साथियों ने पाया कि यह मंडलियाँ मुख्य रूप से दलित समुदाय के बीच हैं जहां लोग दिनभर मेहनत करते हैं और रात को खाना खाकर कबीर को अपने एकतारे के साथ गाते हैं

लिंडा बताती हैं कि उनके लिए यह निर्णय बड़ा कठिन था कि वे कबीर चुनें या तुलसीदास क्योकि दोनों ही भक्तिकाल के महत्वपूर्ण कवि थे और जनमानस में रचे-बसे इतने हैं कि लोग बात-बात में तुलसी या कबीर की बानी को बोलते हैं. कबीर और तुलसी के उद्धरणों से भारतीय जनमानस ओत-प्रोत है. साथ ही लोग सिर्फ बोलते ही नहीं बल्कि अपने जीवन में आत्मसात करके उन्हें अमल में भी लाते हैं, यह बड़ी बात है. मीरा जहाँ मेरे तो गिरधर गोपाल कहती हैं, सूरदास पूरे समर्पण से श्रीकृष्ण की भक्ति में लीन हैं, तुलसी दास एक आदर्श जीवन की बात करते हैं. वहीँ कबीर में मुझे एक आदि विद्रोही नजर आता है. उल्लेखनीय है कि अमेरिका में रहकर लिंडा बौद्ध धर्म की अनुयायी हैं और वे कबीर और बुद्ध को बहुत करीब पाती हैं इसलिए वे कबीर को अपनाती हैं और हिंदी ही नहीं सीक्तीं सीखतीं बल्कि मालवी सीखकर मंच पर बाकायदा गाती भी हैं. कभी नारायण जी देल्म्या के साथ या कभी प्रहलाद जी के साथ. उनके लिए कालूराम बामनिया को प्रोत्साहित करना जितना जरुरी है उतना ही वे टोंकखुर्द की लीला बाई और उनकी बहू को भी इतना प्रोत्साहित  करती है कि वे आज सशक्त महिला मंडली चला रही हैं और मालवा में इन दिनों ये महिला गायक स्थापित हुई है और लोग बाकायदा इन्हें चौका आरती में बुलाते हैं. मालवा में इतनी रची-बसी कि रिटायर होने के बाद वे पहली फुर्सत में मित्रों से मिलने आ गईं और अबकी बार बगैर किसी अजेंडे के पर आज जब मै बॉडी ऑफ़ सोंग्स की बात कर रहा था तो किताब के अनुवाद की बात निकल पड़ी और फिर हम लोग देर तक उस पर बातें करते रहे . मुझसे बोलीं मै कृतज्ञ हूँ कि आपने इस किताब के अनुवाद का विचार मन में किया हालांकि यह कार्य बेहद बड़ा और दुष्कर है पर यदि इसे आप कर पायें तो मैं बहुत आभारी रहूंगी और वे हाथ जोड़कर झुकाती हैं. यह सहजता और सरलता कहाँ होती है इस उम्र में और इस स्तर पर जाने के बाद, मुझे हमारे यहाँ के बौद्धिक लोगों का कृत्रिम आभा मंडल याद आया. बहरहाल, वे देवास में हैं तो कल टेकडी चढ़ आईं. बावजूद इसके कि अभी दो माह पूर्व ही उनका आपरेशन हुआ है पर वे मस्त-मौला हैं और खूब काम करती हैं और खूब पढ़ती है लिखती है.

बॉडी ऑफ़ सोंग्स की प्रेरणा के बारे में वे कहती हैं कि किताब की शुरुवात एकलव्य के कार्यकर्ता स्व दिनेश शर्मा के एक वाक्य से हुई जिसमें दिनेश ने कहा था कि कबीर ने दो तरह के भजन लिखे, एक सामाजिक और दूसरे धार्मिक और यही वो क्षण था जब उनके दिमाग में कौंधा कि कबीर को भारतीय जनमानस में इस तरह से समझा देखा और गुना जाता है इस पर काम करने की जरुरत है. दस साल तक वे मालवा के गाँवों में बार-बार अमेरिका से आकर घूमती रहीं, देश भर के लोगों से विमर्श किया, भारत में हजारी प्रसाद द्विवेदी की किताब कबीरऔर बाद में डा पुरुषोत्तम अग्रवाल की अकथ कहानी प्रेम कीही थी जो कबीर को दूर तक ले जाती है. गायकों में कबीर मंडलियों के अतिरिक्त कुमार गन्धर्व ने ज्यादा गाया और आबिदा से लेकर अन्य लोगों ने भी टुकड़ों-टुकड़ों में. शबनम वीरमनी की चार फिल्मों ने कबीर प्रोजेक्ट के तहत कबीर को दूर-दराज में स्थापित किया. आज कबीर कैफे, कबीर यात्रा जो राजस्थान में हर साल निकल रही है. मालवा या राजस्थान में मेवाती घराने के लोग कबीर पर बेहतर काम कर रहे हैं .

जब मैंने पूछा कि क्या आज के विषाक्त माहौल में कबीर से हमें कोई राह मिल सकती है या कोई समाधान कबीर में नजर आता है जबकि कबीर के पंथ और अनुयायी ही आपस में इतने बंटे हुए हैं तो बोलीं कि रास्ता तो किसी के पास भी नहीं है. मेरा देश या आपका देश, आज जिन भी परिस्थितयों से गुजर रहा है वहाँ लोगों को सही बात के लिए सही तरीकों को अपनाते हुए लड़ना होगा. अपने इजराईली दोस्त का उदाहरण देते हुए उन्होंने बताया कि वो विद्वान् है खूब पढ़ा लिखा स्कालर है पर फिलिस्तीनियों का समर्थक है और वह उनके समर्थन में मैदान में अड़कर खड़ा हो जाता है, लड़ता है – भिड़ता है, बार बार हारता है पर फिर जुझारू की तरह से पहुँच जाता है. जब मैंने उससे पूछा कि क्यों जाते हो लड़ने तो वह बोला कि अच्छी बात के लिए अच्छे तरीके से लड़ना कोई गलत नहीं है. हम सबको लड़ना होगा, खूब लड़ना होगा. हम लोग कम हैं तो क्या पर क्या अच्छी बात और न्याय के लिए लड़ना छोड़ दें? बस यही बात कबीर भी कहते थे जो अकेले थे और पूरी हिम्मत से कहते थे साधौ ये मुर्दों का गाँव, राज मरि है, परजा मरि है, मरि है सारा गाँव.

प्रोफ़ेसर लिंडा हेस हमारे लिए एक प्रेरणा ही नहीं, एक ताकत भी हैं जिन्होंने भारत के भक्ति काल के महत्वपूर्ण कवि की रचनाओं को ना केवल अंग्रेजी में अनुदित किया बल्कि दर्शन और आध्यात्म के साथ सामाजिकरण की प्रक्रियाओं को विश्लेषित किया.  हमें महत्वपूर्ण जमीनी काम बाकायदा दस्तावेजीकृत कर सौंपा है. अब हमारी यह जिम्मेदारी बनती है कि अपनी इस विशाल संस्कृति और परम्परा की थाती को  संभाल कर रखें और इसको आगे बढायें.

(लेखक सामाजिक कार्यकर्ता और स्वतंत्र टिप्पणीकार हैं.)

3 COMMENTS

  1. कमाल की कलम चलाई हैं आपने……लिंडा के भारत प्रेम से ज्यादा आकर्षित करता हैं , उनका कबीर प्रेम…..

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here