उदय प्रकाश की रचना पर मराठी फिल्म पर नहीं दिया क्रेडिट

0

सौतुक डेस्क/

मराठी भाषा में एक फिल्म आ रही है ‘नशीबवान’. यह फिल्म हिंदी के मूर्धन्य साहित्यकार उदय प्रकाश की रचना ‘दिल्ली की दीवार’ पर आधारित है पर इस फ़िल्में न उन्हें क्रेडिट दिया गया है और न ही इसके लिए उनसे कोई आर्थिक लेन देन ही हुआ है.

उदय प्रकाश के फेसबुक पोस्ट से पता चलता है कि फिल्म-निर्देशक अमोल वसंत गोले उनकी रचनाओं के बारे में उनसे बात करता रहा है और एक वेब सीरीज बनाने के लिए उसने कथाकार से बात भी शुरू की थी. इसके लिए 50,000 रुपये पर सहमति भी बनी थी जो उसने अब तक नहीं दिए हैं. और ताजा खबर यह है कि उस शख्स ने वेब सीरीज की जगह फिल्म बना ली और लेखक का नाम भी नहीं दिया है.

“दिल्ली की दीवार’ पर एक ‘वेब सीरीज़’ (और फ़िल्म) मराठी भाषा में बनाने के लिए कुल 50,000 रुपये  में औपचारिक अनुमति ली थी (जो उसने अभी तक पूरी नहीं की). उसने उसी कहानी पर मराठी में एक फ़ीचर फ़िल्म बना ली है, जिसमें कहानीकार का कोई क्रेडिट नहीं है”

अपने फेसबुक वाल पर कथाकार उदय प्रकाश लिखते हैं, ” ‘दिल्ली की दीवार’ पर एक ‘वेब सीरीज़’ (और फ़िल्म) मराठी भाषा में बनाने के लिए कुल 50,000 रुपये  में औपचारिक अनुमति ली थी (जो उसने अभी तक पूरी नहीं की). उसने उसी कहानी पर मराठी में एक फ़ीचर फ़िल्म बना ली है, जिसमें कहानीकार का कोई क्रेडिट नहीं है.”

इस फिल्म के निर्माता अमित नरेश पाटिल, विनोद मनोहर गायकवाड और महेंद्र गंगाधर पाटिल हैं. इस फिल्म के निर्देशन अमोल वसंत गोले हैं जिन्होंने लेखन का भी क्रेडिट खुद के नाम पर ले रखा है.

इस फिल्म के मुख्य अभिनेता भाऊ कदम हैं जो मराठी सिनेमा में काफी मशहूर हैं.

फ़िल्मी दुनिया का कथाकारों के साथ किया गया यह बर्ताव नया नहीं है. हाल ही में एक और हिंदी की कथाकार मनीषा कुलश्रेष्ठ ने ‘न्यूड’ फिल्म बनाने वालों के ऊपर चोरी का आरोप लगाया था.

उनके अनुसार ‘न्यूड’ फिल्म उनकी कहानी ‘कालिंदी’ से प्रेरित है और उन्होंने फिल्म बनने के दौरान जब इस मुद्दे पर निर्देशक से बात की तो उन्होंने गोल-मटोल जवाब दिया. ‘न्यूड’ फिल्म का निर्देशन रवि जाधव ने किया है.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here