पाश की कविता जिसे दीनानाथ बत्रा कोर्स से हटाना चाहते हैं

1

'द वायर' की एक खबर के अनुसार दीनानाथ बत्रा ने सुझाव दिया है कि अवतार पाश की कविता 'सबसे खतरनाक' ग्यारहवीं के पुस्तक आरोह से हटाई जानी चाहिए. पेशे से शिक्षक रहे बत्रा ने शिक्षा बचाओ आन्दोलन समिति और शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास की स्थापना की थी. बत्रा विद्या भारती से भी जुड़े रहे हैं जो राष्ट्रीय स्वयसेवक संघ से जुड़ा है.
पंजाबी कवि पाश को खालिस्तानी आतंकवादियों ने 1988 में मार दिया था. जानिये कौन सी वो कविता है और इस पर अपने विचार दीजिये.

सबसे खतरनाक

मेहनत की लूट सबसे ख़तरनाक नहीं होती
पुलिस की मार सबसे ख़तरनाक नहीं होती
ग़द्दारी और लोभ की मुट्ठी सबसे ख़तरनाक नहीं होती
बैठे-बिठाए पकड़े जाना बुरा तो है
सहमी-सी चुप में जकड़े जाना बुरा तो है
सबसे ख़तरनाक नहीं होता
कपट के शोर में सही होते हुए भी दब जाना बुरा तो है
जुगनुओं की लौ में पढ़ना
मुट्ठियां भींचकर बस वक्‍़त निकाल लेना बुरा तो है
सबसे ख़तरनाक नहीं होता

सबसे ख़तरनाक होता है मुर्दा शांति से भर जाना
तड़प का न होना
सब कुछ सहन कर जाना
घर से निकलना काम पर
और काम से लौटकर घर आना
सबसे ख़तरनाक होता है
हमारे सपनों का मर जाना
सबसे ख़तरनाक वो घड़ी होती है
आपकी कलाई पर चलती हुई भी जो
आपकी नज़र में रुकी होती है

सबसे ख़तरनाक वो आंख होती है
जिसकी नज़र दुनिया को मोहब्‍बत से चूमना भूल जाती है
और जो एक घटिया दोहराव के क्रम में खो जाती है
सबसे ख़तरनाक वो गीत होता है
जो मरसिए की तरह पढ़ा जाता है
आतंकित लोगों के दरवाज़ों पर
गुंडों की तरह अकड़ता है
सबसे ख़तरनाक वो चांद होता है
जो हर हत्‍याकांड के बाद
वीरान हुए आंगन में चढ़ता है
लेकिन आपकी आंखों में
मिर्चों की तरह नहीं पड़ता

सबसे ख़तरनाक वो दिशा होती है
जिसमें आत्‍मा का सूरज डूब जाए
और जिसकी मुर्दा धूप का कोई टुकड़ा
आपके जिस्‍म के पूरब में चुभ जाए

मेहनत की लूट सबसे ख़तरनाक नहीं होती
पुलिस की मार सबसे ख़तरनाक नहीं होती
ग़द्दारी और लोभ की मुट्ठी सबसे ख़तरनाक नहीं होती ।

(कविता-कविताकोश से साभार)
(कवि की तस्वीर- द वायर से साभार)

picture credit - https://rspurewall.wordpress.com/category/poetry/page/2/

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here