मध्यप्रदेश: पुलिस अधिकारी के बाद खनन माफिया ने ली पत्रकार की जान

0

सौतुक डेस्क/

मध्य प्रदेश में पहले खनन माफिया ने पुलिस अधिकारी को गाड़ी से कुचल कर मार दिया था. आज उसी मध्यप्रदेश के भिंड जिले में एक पत्रकार की ट्रक से कुचलकर हत्या करने की खबर आ रही है. खबरों के मुताबिक़ इस पत्रकार ने रेत माफिया और पुलिस के गठजोड़ का स्टिंग ऑपरेशन से खुलासा किया था. इसका दर्दनाक विडियो वायरल भी हुआ है.

निजी समाचार चैनल के पत्रकार संदीप शर्मा की सोमवार को रेत से भरे ट्रक से कुचलकर मौत हो गई. परिजन सहित अन्य लोग हत्या की आशंका जता रहे हैं.

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार, सोमवार की सुबह संदीप शर्मा अपने दुपहिया वाहन से घर से सर्किट हाउस की ओर जा रहे थे, तभी पीछे से आ रहे रेत से भरे ट्रक ने उन्हें टक्कर मार दी, जिससे संदीप जमीन पर गिर गए, उसके बाद चालक वाहन से उन्हें रौंदता हुआ भाग गया.

अगर वायरल विडियो सच है तो यह साफ़ है कि ट्रक वाले ने रास्ता बदलकर संदीप को कुचला. इस विडियो को देखकर कई लोगों ने तो यह भी कहा कि यह सब देखकर अगर सरकार जांच बैठाती है इसका मतलब यह है कि वह इन माफिया समूह को बचाने का रास्ता ढूंढ रही है.

यह सब देखकर अगर सरकार जांच बैठाती है इसका मतलब यह है कि वह इन माफिया समूह को बचाने का रास्ता ढूंढ रही है

बाद में पुलिस ने ट्रक जब्त कर आरोपी चालक रणवीर को गिरफ्तार कर लिया। संदीप के रिश्तेदार और पत्रकार विकास शर्मा ने घटना की रिपोर्ट दर्ज कराई. पुलिस अधीक्षक प्रशांत खरे ने संवाददाताओं को बताया है कि इस घटना की जांच के लिए एसआईटी गठित की गई है, जांच पूरी बारीकी से होगी, जो भी तथ्य सामने आएंगे, उसी के आधार पर कार्रवाई होगी. सवाल यह है कि क्या वही पुलिस वाले जिसके खिलाफ संदीप स्टिंग ऑपरेशन कर रहे थे वो अपने गुनाह को बाहर आने देंगे?

कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ट्वीट कर रेत माफिया और पुलिस के गठजोड़ का खुलासा करने वाले पत्रकार शर्मा की ट्रक से कुचलकर हुई मौत को हत्या करार देते हुए कहा कि यह अत्यंत गंभीर और संदिग्ध मामला है, जिसकी सीबीआई से जांच होनी चाहिए. निडर खनन माफिया के हौसले बढ़ते जा रहे हैं, और नि:सहाय सरकार आंख मूंदकर बैठी है.

नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने एक बयान जारी कर पत्रकार की मौत की सीबीआई से जांच करवाने की मांग करते हुए कहा है कि दुर्घटना के जो सीसीटीवी फुटेज सामने आए हैं उससे प्रथम दृष्टया स्पष्ट दिखलाई देता है कि इरादतन ट्रक ने संदीप शर्मा को कुचला है.

नेता प्रतिपक्ष सिंह ने आगे कहा कि संदीप शर्मा के साथ हुआ यह हादसा इसलिए भी हत्या का प्रयास है क्योंकि पहले ही वे स्थानीय एसडीओपी इंद्रवीर सिंह भदौरिया के खिलाफ किए गए स्टिंग अपरेशन के बाद अपनी जान पर खतरे की आशंका जता चुके थे और उन्होंने प्रधानमंत्री से लेकर राज्यपाल, मुख्यमंत्री सहित सभी संबंधित अधिकारियों को इसको लेकर चेताया था. लेकिन कोई सुनवाई न होने की वजह से आज उनके साथ यह हादसा हो गया.

मार्क्सेवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के राज्य सचिव जसविंदर सिंह ने संदीप शर्मा की हत्या की निंदा करते हुए कहा कि संदीप छात्र जीवन से ही निर्भीक और आदर्शवादी छात्र रहा है. मध्यप्रदेश में खनन माफियाओं की लूट को उजागर करने वाले पत्रकारों की इससे पहले भी कई हत्याएं हो चुकी हैं.

आम आदमी पार्टी की राज्य इकाई ने भी पत्रकार शर्मा की मौत पर गहरा दुख व्यक्त करते हुए मामले की निष्पक्ष उच्चस्तरीय जांच कराए जाने की मांग की है.

वर्ष 2012 में इस राज्य के मोरेना जिले में एक आईपीएस अधिकारी नरेन्द्र कुमार सिंह की गाड़ी से कुचल कर हत्या कर दी गई थी. यह अधिकारी अपने क्षेत्र का मुआयना करने गए थे जब एक ट्रेक्टर और ट्राली दिखाई पड़ा जिसपर पत्थर लदे हुए थे. जब नरेन्द्र कुमार सिंह ने गाड़ी चालाक को रुकने के लिए इशारा किया था. उसने गाड़ी न रोककर इस अधिकारी पर ही चढ़ा दी थी.

 

–आईएएनएस

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here