इंसान नहीं अब रोबोट करेंगे सीवर की सफाई

0
साभार 'द हिन्दू'

सौतुक डेस्क/

किसी इंसान को गटर में उतार कर सफाई कराना आम बात है. हर थोड़े दिन पर गटर के गैस की वजह से मजदूरों के मरने की खबरें आती रहती हैं. आप अगर इन सब खबरों से परेशान होते हैं तो कोई बात नहीं अब जल्दी ही इस समस्या का समाधान आने वाला है. सरकार ने तो नहीं, पर तकनिकी ने जरुर इस समस्या का निदान ढूंढ लिया है. खबर यह है कि अब रोबोट गटर में उतरा करेंगे.

इसकी शुरुआत केरल से होने वाली है जहां सीवेज साफ़ करने की जिम्मेदारी अब रोबोट उठाने वाले हैं और इस तरह इंसानों का गटर में उतरना बंद हो जाएगा. समाचार के मुताबिक ‘बंडीकूट’ नाम के रोबोट का ईजाद जेन रोबोटिकस ने किया है. ये रोबोट सीवर में उतर कर गन्दगी साफ़ करेंगे.

केरल वाटर अथॉरिटी (KWA) और केरल स्टार्टअप मिशन (KSUM) ने हाल ही में एक एमओयु पर हस्ताक्षर किया है जिसमें तकनिकी हस्तांतरण की बात की गयी है और इसमें रोबोट का इस्तेमाल भी शामिल है. मुख्यमंत्री निवास पर इस एमओयु पर हस्ताक्षर किया गया है.

केरल वाटर अथॉरिटी और केरल स्टार्टअप मिशन ने हाल ही में एक एमओयु पर हस्ताक्षर किया है जिसमें तकनिकी हस्तांतरण की बात की गयी है और इसमें रोबोट का इस्तेमाल भी शामिल है

‘बंडीकूट’ जल्दी ही काम करना शुरू करेगा.  इस रोबोट के चार अंग बनाए गए हैं और उसके साथ एक टोकरीनुमा भी कुछ भाग रहेगा. इसमें वाई-फाई और ब्लूटूथ भी मौजूद होगा. जेनरोबोटोकिस के इस प्रोजेक्ट का खर्च KSUM ने उठाया था.

केरल सरकार का यह कदम काबिलेतारीफ है. खासकर मरने वाले मजदूरों की संख्या को देखते हुए जो गटर की जहरीली गैस के शिकार हो रहे हैं. सनद रहे कि अभी तक सीवर साफ़ करने से सम्बंधित सारा काम इंसानों द्वारा ही किया जाता रहा है.

नवम्बर 2017 में केंद्र सरकार ने कानून में संशोधन किया और कहा कि अगर कोई ठेकेदार या बिचौलिया एक मजदूर को सीवर में जाने के लिए प्रेरित करता है और किसी स्थिति में उस मजदूर की मौत हो जाती है तो उसे दस लाख रुपये मुआवजा देना पड़ेगा. यह सरकार के द्वारा दिए जाने वाले 10 लाख रुपये के मुआवजे के अतिरिक्त होगा.

अलबत्ता नवम्बर तक के आंकड़े के अनुसार साफ़ पता चलता है कि सभी राज्य अपने यहाँ इस कारण से मरने वाले लोगों की संख्या छिपाते हैं. उत्तर प्रदेश, कर्नाटक, पंजाब , दिल्ली, हरियाणा, राजस्थान और तमिलनाडु ने पिछले 25 सालों में मरने वालों की कुल संख्या महज़ 270 ही बताई है जबकि सफाई कर्मचारी आंदोलन के अनुसार अब तक कम से कम 1,560 लोगों की जान जा चुकी है.

उम्मीद की जा सकती है कि इस नए रोबोट के आ जाने के बाद मजदूरों को सीवर में नहीं उतारा जायेगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here