आईपीएल में अब नहीं दिखेगी गेल के बल्ले की धमक

0

जयंत के. सिंह/

क्रिस्टोफर हेनरी गेल का नाम जेहन में आते ही झन्नाटेदार चौके और लम्बे छक्के आंखों के सामने आ जाते हैं। गेल को अगर फटाफट क्रिकेट का सबसे बड़ा एंटरटेनर कहा जाए तो गलत नहीं होगा लेकिन अब यह एंटरटेनर भारत में अपने बल्ले की धमक नहीं दिखा सकेगा क्योंकि इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 11वें संस्करण के लिए हुई नीलामी में किसी फ्रेंचाइजी ने गेल को अपने साथ जोड़ने में रुचि नहीं दिखाई।

टी-20 इतिहास के सबसे सफल बल्लेबाज वेस्टइंडीज के गेल को बेंगलुरू में जारी नीलामी के दूसरे दिन रविवार को भी कोई खरीदार नहीं मिला। पहले दिन गेल को कोई खरीदार नहीं मिला था, तो यह उम्मीद जगी थी कि दूसरे दिन जरूर कोई फ्रेंचाइजी इस धुरंधर को अपने साथ जोड़ेगा लेकिन शायद गेल इस साल फ्रेंचाइजी मालिकों की रणनीति में फिट नहीं हुए।

गेल के नाम टी-20 क्रिकेट में 11 हजार से अधिक रन और 20 से अधिक शतक दर्ज हैं। गेल इससे पहले आईपीएल में कोलकाता नाइट राइर्ड्स और रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के लिए खेले हैं लेकिन लीग के 11वें संस्करण में क्रिकेट प्रेमियों को इस धुरंधर बल्लेबाज के बल्ले की धमक नहीं दिखाई देगी।

ऐसा नहीं है कि गेल फार्म में नहीं हैं। वह बेशक अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर बीते कुछ मैचों में अपनी टीम के लिए कुछ खास नहीं कर सके हैं लेकिन एक फ्रीलांस क्रिकेटर के तौर पर वह सबसे अधिक सफल रहे हैं और यही कारण है कि वह दुनिया भर में आयोजित होने वाली टी-20 लीग में खेल चुके हैं।

गेल के नाम टी-20 क्रिकेट में 11 हजार से अधिक रन और 20 से अधिक शतक दर्ज हैं

गेल ने नाइट राइर्ड्स और रॉयल चैलेंजर्स के अलावा एक फ्रीलांस क्रिकेटर के तौर पर बारिसाल बर्नर्स, ढाका ग्लैडिएटर्स, लाहौर क्वालैंडर्स, माताबेलेलैंड्स तुर्कर्स, मेलबर्न रेनेगेड्स, सेंट कीट्स नेविस पैट्रियॉर्ट्स, स्टैनफोर्ड सुपरस्टार्स और सिडनी थंडर जैसी टी-20 फ्रेंचाइजी टीमों को अपनी सेवाएं दी हैं।

गेल को कोई खरीदार नहीं मिलने के साथ ही दुनिया की सबसे चर्चित क्रिकेट लीग-आईपीएल में एक युग का समापन हो गया है। गेल ने आईपीएल में 2008 के पहले सीजन को छोड़कर बाकी सभी सीजनों में क्रिकेट प्रेमियों को मनोरंजन किया है।

2011, 2012 और 2013 में गेल ने 600 से अधिक रन बनाए थे। 175 नाबाद उनका इस टूर्नामेंट में श्रेष्ठ व्यक्तिगत योग रहा है। गेल ने 101 आईपीएल मैच में कुल 3626 रन बनाए हैं, जिनमें पांच शतक और 21 अर्धशतक शामिल हैं। इस धुरंधर खिलाड़ी ने आईपीएल में कुल 294 चौके और 265 छक्के लगाए और 23 कैच भी लपके।

गेल का तूफान 2011, 2012 और 2013 में आईपीएल में जमकर बोला था। इस विष्फोटक बल्लेबाज ने 2011 में 12 मैचों में 67.55 के औसत से कुल 608 रन बनाए थे। इसमें दो शतक और तीन अर्धशतक शामिल हैं। इस साल गेल के बल्ले से 44 छक्के निकले थे।

2012 में गेल ने अपने सभी आंकड़ों को पीछे छोड़ते हुए 15 मैचों में 733 रन ठोक डाले। 128 नाबाद उनका बेस्ट स्कोर था और इसके अलावा उनके बल्ले से सात अर्धशतक निकले थे। गेल ने इस साल रिकार्ड 59 छक्के लगाए, जो आज भी एक कायम है।

गेल एकमात्र ऐसे बल्लेबाज हैं, जिन्होंने आईपीएल को दो संस्करणों में 50 से अधिक छक्के लगाए

गेल एकमात्र ऐसे बल्लेबाज हैं, जिन्होंने आईपीएल को दो संस्करणों में 50 से अधिक छक्के लगाए। 2012 के बाद गेल ने 2013 में एक बार फिर अपने बल्ले का धमाल दिखाया और 16 मैचों में 708 रन बनाए। इस साल गेल के 175 रनों की पारी खेली, जो आईपीएल की सबसे बड़ी पारियों में से एक है। इस शतक के अलावा गेल ने चार अर्धशतक भी लगाए और 51 छक्के लगाते हुए दर्शकों का भरपूर मनोरंजन किया।

साल 2014 गेल के लिए बेहद निराशाजनक रहा। इस साल वह नौ मैचों में 196 रन ही बना सके लेकिन 2015 में उन्होंने फिर शानदार वापसी की और 14 मैचों में 491 रन बनाए। साल 2016 में गेल के बल्ले से 10 मैचों में 227 और साल 2017 में नौ मैचों में 200 रन निकले।

गेल 39 साल के हो चुके हैं। वह विकेट पर खड़े रहकर झन्नाटेदार चौके और शानदार छक्के लगा सकते हैं लेकिन फील्डिंग में उनका हाथ कमजोर है। रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर ने लम्बे समय तक गेल पर भरोसा जताया और उन्हें अपने साथ बनाए रखा लेकिन इस बार गेल विराट कोहली की कप्तानी वाली इस टीम की रणनीति में फिट नहीं हुए और इस तरह आईपीएल में गेल के रूप में एक अध्याय का अंत हुआ।

–आईएएनएस

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here