नया ट्रेंड देखकर लगता है कि सलमान खान टाईप फिल्मों के दिन लड़ गए हैं

0

सलमान खान हिंदी सिनेमा के भाई कहे जाते हैं. बॉलीवुड का यह भाई सबको ठेंगे पर रखने के लिए जाना जाता है. सलमान खान की फिल्मों के बारे में पूछा जाए तो उनका कोई प्रशंसक ये नहीं बता पायेगा कि बात-बात पर शर्ट खोलने वाले इस अभिनेता की  फिल्म में उसे क्या अच्छा लगता है. पर कुछ रहा है जो उस और वैसे ढेरों प्रशंसक को बड़े परदे तक खींच लाता है. शायद यही वजह है कि सलमान अपने पेशे के साथियों की तो दूर, फिल्म समीक्षकों तक की परवाह नहीं करते दिखते हैं. हाल ही में उनकी नई फिल्म ट्यूबलाईट  रीलिज हुई और उन्होंने समीक्षकों से यहाँ तक कह दिया कि चाहो तो उनकी फिल्म को माईनस रेटिंग दे दो.

लगता है सलमान मान बैठे थे कि उनकी फिल्म रिलीज़ हुई और चार दिन का वीकेंड मिला, अब उनको किसी की जरुरत नहीं है. लेकिन वे ग़लत साबित होते दिख रहे हैं.

लगता है कि बॉलीवुड में अच्छा समय दस्तक दे रहा है. अब बिना एक्टिंग किये आप अपना ग़ुरूर कायम नहीं रख सकते. अब दर्शक को एक अच्छी फिल्म चाहिए जिसमे कोई कहानी हो और फिल्म से जुड़े कलाकारों ने उसमे मेहनत की हो. अन्यथा सिर्फ यह वजह कि आप सलमान, शाहरुख़ हैं और आपकी फिल्मों के रिलीज़ के लिए ईद और दिवाली जैसे छुट्टीयों के दिन रिजर्व है, आपकी फिल्म चलाने के लिए काफी नहीं है.

जहाँ एक तरफ लोग छुट्टी के बावजूद ट्यूबलाइट जैसी फिल्म में रिलीज़ के साथ ही कम इंटरेस्ट दिखा रहे हैं वहीँ दंगल जैसी फिल्म अपने रिलीज़ के छः महीने बाद भी देश ही नहीं विदेशों में भी सफलता के नए झंडे गाड़ रही है. सलमान की इस नई फिल्म ने इनके पिछली कई फिल्मों से कम कमाई की है. यहाँ पहले सप्ताह की तुलना में यह बात कही गई है. बॉक्स ऑफिस कलेक्शन पर नजर रखने वाले तरन आदर्श के ट्वीट की मानें तो वर्ष 2011 में आई इनकी फिल्म बॉडीगार्ड ने पहले तीन दिन में 88.75 करोड़ रुपये की कमाई की थी, वहीँ एक साल बाद आई फिल्म, एक था टाईगर  ने 100.16 करोड़ रुपये का व्यापार किया. वर्ष 2014 में आई किक ने 83.83 करोड़ रुपये और 2016 में आई सुल्तान ने करीब 105 करोड़ रुपये का व्यापार किया. ये सारे आंकड़े शुरूआती तीन दिन में किये गए बॉक्स ऑफिस कलेक्शन के हैं. लेकिन बड़े बड़े दावों के साथ आई इनकी नई फिल्म ने बमुश्किल 64 करोड़ रुपये कमाए, जो इस अभिनेता के तय किये मानक से काफी पीछे है.

इधर हाल में आई शाहरुख़ खान की फिल्मों का भी यही हाल रहा है. बड़े शोर-शराबे के साथ रिलीज़ हुई किंग खान की फिल्म रईस  दर्शकों को बांधने में असफल रही. ऐसा ही कुछ हाल हैप्पी न्यू इयर का भी रहा.

यह तब है जब नवाजुद्दीन सिद्दकी जैसे सितारे जो काफी कम बजट में फिल्मे बनाते है और दर्शकों पर अपनी छाप छोड़ने में सफल हो रहे हैं. इसी समय में आमिर खान अपनी फिल्मों से दर्शकों पर अपनी पकड़ बनाए हुए हैं. दोनों खानों से आमिर खान की फिल्म विषयवस्तु और उसके निर्वाह के मामले में काफी अलग होती है. परफेक्शनिस्ट कहे जाने वाले आमिर की आखिरी फिल्म दंगल  ने विश्व भर में कई झंडे गाड़े हैं. भारतीय सिनेमा में, यह अब तक की सबसे अधिक कमाने वाली फिल्म है जिसने 2000 करोड़ रुपये का आंकड़ा पार कर लिया है और अभी भी चीन में यह फिल्म काफी अच्छी कमाई कर रही है.

ऐसे में क्या यह माना जाए कि दर्शकों ने फिल्म से जुड़े अपने स्वाद पर काम करना शुरू कर दिया है और उनके सामने कुछ भी परोस कर आप निश्चिंत नहीं हो सकते.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here