Friday, December 14, 2018

स्वास्थ्य...

स्त्रीनामा

हॉलीवुड की तरह बॉलीवुड की अभिनेत्रियां अपना शोषण करने वालों का...

दुर्गा चक्रवर्ती/ नई दिल्ली, 21 जनवरी (आईएएनएस)| हॉलीवुड अभिनेत्रियों की तरह बॉलीवुड की अभिनेत्रियां अपना शोषण करने वालों का नाम खुलकर क्यों नहीं लेतीं और...

हिंदी हार्टलैंड में कांग्रेस की सफलता को इन पांच ‘एम’ के...

उमंग कुमार/ कहने वाले कह सकते हैं कि कांग्रेस पार्टी ने हिंदी क्षेत्र के तीनों राज्य में चुनाव जीता तो है पर वैसे नहीं जैसे...

मेक इन इंडिया का तो कुछ नहीं हुआ लेकिन ब्रेक इन...

शिखा कौशिक/ सोमवार की शाम जब सबकी निगाहें एक दिन बाद आने वाले पांच विधानसभा चुनाव के नतीजों पर थी तब देश की अर्थव्यवस्था के...

कूँची-कलम

इतिहास को दबाने के लिए ‘इतिहास’ गढ़ने की परम्परा का सत्य

चंदन पांडेय/ भारत का इतिहास अनसुलझी गुत्थी है. कभी कभी लगता है कि हम जो पढ़ते हैं इतिहास के नाम पर वो सब मुलम्मा है....

Follow us

1,135FansLike
3FollowersFollow
171FollowersFollow

ऑफ़बीट

लोक

ले आव ना हरदिया, दरदिया होला बड़ी जोर-हल्दी में वो बात...

श्रीधर दूबे/ (गोरखपुर के रहने वाले श्रीधर दूबे अपने व्यक्तित्व में ही लोक कवि हैं . आजकल नोएडा में कार्यरत हैं. इन्होंने कुछ ऐसी कवितायेँ...

मीडिया

सिनेमा

खेल

ट्रेंडिंग खबर

मेक इन इंडिया का तो कुछ नहीं हुआ लेकिन ब्रेक इन इंडिया ने नई...

शिखा कौशिक/ सोमवार की शाम जब सबकी निगाहें एक दिन बाद आने वाले पांच विधानसभा चुनाव के नतीजों पर थी तब देश की अर्थव्यवस्था के...

दिल्ली की गन्दी हवा को भी अवसर में तब्दील कर दिया स्टार्टअप ने, जानिए...

शिखा कौशिक/ दिल्ली के हवा में बढ़ते प्रदूषण ने एक नया उद्योग खड़ा किया है. एक तरफ दिल्ली की हवा में सांस लेना दूभर हो...

दिवाली मनाने से पहले जानें पटाखा उद्योग से जुड़ी कुछ ज़रुरी बातें

अनिमेष नाथ/ दिवाली की तैयारियां जोर शोर से चल रही हैं. चारों तरफ इसी से जुड़ी चर्चा है. तमाम बातों में पटाखों पर होने वाली...

कौमार्य परिक्षण अब भी जारी, सयुंक्त राष्ट्र ने आवाज उठाई पर भारत अब भी...

अनिमेष नाथ/ जब देश में नवरात्रि का उत्सव चरम पर था और लड़कियाँ देवी के तौर पर देखी जा रही थीं, ठीक उसी समय एक 23 साल कीमहिला को इसलिए गरबे में शामिल होने से रोक दिया गया क्योंकि उसने पारंपरिक कौमार्य परिक्षण या कहें वर्जिनिटी टेस्ट मेंशामिल होने से मना कर दिया था. पुणे की रहने वाली इस महिला का नाम ऐश्वर्या तमाचिकर  है. इनका विवाह इसी साल मई महीने में विवेक तमाचिकर के साथसंपन्न हुआ. न केवल इस महिला ने, बल्कि उसके पति ने भी इस कौमार्य परिक्षण की कुप्रथा को मानने से इनकार करदिया. ऐश्वर्या शादी के पहले से ही इस कुप्रथा का विरोध कर रही थीं और इसके खिलाफ अभियान भी छेड़ रखा था. इक्कसवी सदी में भी प्रचलित इस कुप्रथा के बारे में आइये आपको बताते चलें. यह प्रथा कंजर भाट आदिवासी समुदाय में प्रचलित है जिसमें महिलायें, अपनी शादी की पहली रात सफ़ेद चादर लेकर सोने जाति हैं. सामाजिक...

एचआईवी से जंग: गरीबी और संक्रमण में सीधा रिश्ता

अनिमेष नाथ/ भारत एक ऐसा देश है जिसने न केवल खुद के एचआईवी की समस्या से लोहा लिया है बल्कि अफ़्रीकी देशों में संक्रमण को...

क्या नरेन्द्र मोदी की सरकार वाकई महिला हितैषी है? जानिये.

शिखा कौशिक/ देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी राजस्थान के अज़मेर में बोल रहे थे. उन्होंने कहा कि उनकी सरकार महिलाओं के भले के लिए काम...

क्या है किसानों की सबसे बड़ी मांग जिसे सरकार पूरा नहीं कर पा रही...

शिखा कौशिक/ पिछले कुछ सालों से सरकार और किसानों में ठनी हुई है. आखिर मुद्दा क्या है? क्या चाहते हैं किसान और सरकार क्यों नहीं...

स्टार्ट-अप

नकली करंसी को चेक करेगा चेकफेक एप

सौतुक डेस्क/ चेकफेक ब्रैंड प्रोटेक्शन सिस्टम प्राइवेट लिमिटेड ने एक अनोखा ग्लोबल प्लेटफॉर्म 'चेकफेक' एप लांच किया है, जिससे विश्व की किसी भी करंसी नोट...