Wednesday, January 16, 2019

स्वास्थ्य...

स्त्रीनामा

देश की 112 ‘पहली महिलाएं’ जिन्होंने हदें पार कर सपना किया...

निवेदिता सिंह/ नई दिल्ली: कुल 112 विभिन्न क्षेत्रों और पेशों से ताल्लुक रखने वाली 'पहली भारतीय महिलाएं' जिनमें कई गुमनामी में खो गई अभिनेत्रियां, पहली महिला...

कलाकारों के किसम किसम के फैन

रजनीश जे जैन/ अपने चहेते कलाकार के लिए प्रशंसकों का जुनून अक्सर अकल्पनीय सीमाएं पार कर जाता है। वे उनकी एक झलक मात्र के लिए...

लोकसभा चुनाव: ‘एक व्यक्ति और एक वोट’ का विचार सिर्फ किताबी...

उमंग कुमार/ लोकसभा का चुनाव सर पर है. निर्वाचन आयोग और तमाम राजनितिक दल आपको आपके वोट का महत्व समझाते फिरेंगे. लेकिन क्या आपको मालूम...

कूँची-कलम

तय तो यही हुआ था

चन्दन पाण्डेय/ अंधापन धीरे धीरे आता है – इसका पता मुझे अचानक चला. शुरुआती पड़ताल के बाद डॉक्टर ने पानी की तरह हल्की अंग्रेजी में...

Follow us

1,151FansLike
4FollowersFollow
173FollowersFollow

ऑफ़बीट

लोक

सदा आनन्द रहे एहि द्वारे: सबका आनंद चाहने वाली वह होली...

श्रीधर दूबे/ आज मन फिर झुरुकती पुरुआ के लय पर विहरते-विहरते उस अमराई की ओर चला गया जो गाँव के ठीक पूरब लगभग दो किलोमीटर...

मीडिया

सिनेमा

खेल

ट्रेंडिंग खबर

मेक इन इंडिया का तो कुछ नहीं हुआ लेकिन ब्रेक इन इंडिया ने नई...

शिखा कौशिक/ सोमवार की शाम जब सबकी निगाहें एक दिन बाद आने वाले पांच विधानसभा चुनाव के नतीजों पर थी तब देश की अर्थव्यवस्था के...

दिल्ली की गन्दी हवा को भी अवसर में तब्दील कर दिया स्टार्टअप ने, जानिए...

शिखा कौशिक/ दिल्ली के हवा में बढ़ते प्रदूषण ने एक नया उद्योग खड़ा किया है. एक तरफ दिल्ली की हवा में सांस लेना दूभर हो...

दिवाली मनाने से पहले जानें पटाखा उद्योग से जुड़ी कुछ ज़रुरी बातें

अनिमेष नाथ/ दिवाली की तैयारियां जोर शोर से चल रही हैं. चारों तरफ इसी से जुड़ी चर्चा है. तमाम बातों में पटाखों पर होने वाली...

कौमार्य परिक्षण अब भी जारी, सयुंक्त राष्ट्र ने आवाज उठाई पर भारत अब भी...

अनिमेष नाथ/ जब देश में नवरात्रि का उत्सव चरम पर था और लड़कियाँ देवी के तौर पर देखी जा रही थीं, ठीक उसी समय एक 23 साल कीमहिला को इसलिए गरबे में शामिल होने से रोक दिया गया क्योंकि उसने पारंपरिक कौमार्य परिक्षण या कहें वर्जिनिटी टेस्ट मेंशामिल होने से मना कर दिया था. पुणे की रहने वाली इस महिला का नाम ऐश्वर्या तमाचिकर  है. इनका विवाह इसी साल मई महीने में विवेक तमाचिकर के साथसंपन्न हुआ. न केवल इस महिला ने, बल्कि उसके पति ने भी इस कौमार्य परिक्षण की कुप्रथा को मानने से इनकार करदिया. ऐश्वर्या शादी के पहले से ही इस कुप्रथा का विरोध कर रही थीं और इसके खिलाफ अभियान भी छेड़ रखा था. इक्कसवी सदी में भी प्रचलित इस कुप्रथा के बारे में आइये आपको बताते चलें. यह प्रथा कंजर भाट आदिवासी समुदाय में प्रचलित है जिसमें महिलायें, अपनी शादी की पहली रात सफ़ेद चादर लेकर सोने जाति हैं. सामाजिक...

एचआईवी से जंग: गरीबी और संक्रमण में सीधा रिश्ता

अनिमेष नाथ/ भारत एक ऐसा देश है जिसने न केवल खुद के एचआईवी की समस्या से लोहा लिया है बल्कि अफ़्रीकी देशों में संक्रमण को...

क्या नरेन्द्र मोदी की सरकार वाकई महिला हितैषी है? जानिये.

शिखा कौशिक/ देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी राजस्थान के अज़मेर में बोल रहे थे. उन्होंने कहा कि उनकी सरकार महिलाओं के भले के लिए काम...

क्या है किसानों की सबसे बड़ी मांग जिसे सरकार पूरा नहीं कर पा रही...

शिखा कौशिक/ पिछले कुछ सालों से सरकार और किसानों में ठनी हुई है. आखिर मुद्दा क्या है? क्या चाहते हैं किसान और सरकार क्यों नहीं...

स्टार्ट-अप

‘असली मसाले सच सच, एमडीएच एमडीएच’- के पीछे की कहानी

उमंग कुमार/ ‘असली मसाले सच सच, एमडीएच एमडीएच.’ टीवी देखते हुए जाने कितनी बार आपने यह लाइन सुनी होगी. इसी के साथ आपने एक बुजुर्ग...